पोषण माह 2021: ‘कुपोषण से लड़ने के लिए न्यूट्र‍िशन गार्डन बनाएं’, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने जिलों से आग्रह किया | Poshan Maah 2021

September 2, 2021 0 Comments



विशेषज्ञों के अनुसार, एक न्यूट्रिशन गार्डन, जो एक बगीचा या घर का वह क्षेत्र है जहां घरेलू उपयोग के लिए सब्जियां, फल या जड़ी-बूटियां उगाई जाती हैं, भोजन और पोषण सुरक्षा के मामले में कमजोर परिवारों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक उपयोगी होगा

नई दिल्ली: जैसा कि देश में पोषण माह (POSHAN Maah, Nutrition Month) के लिए गतिविधियां शुरू होती हैं, जो हर साल सितंबर के पूरे महीने में मनाया जाता है. इसी संबंध में महिला और बाल विकास मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी ने कहा कि ”पोषक तत्वों से भरपूर पौधे इस मुद्दे का मुकाबला करने की कुंजी हैं. बुधवार (1 सितंबर) को पोषण माह की शुरुआत करते हुए, ईरानी ने जोर देकर कहा कि आयुर्वेद का प्राचीन ज्ञान पोषक तत्वों से भरपूर पौधे या पौष्टिक आहार भी निर्धारित करता है.

बच्चों में कुपोषण को दूर करने के लिए, गंभीर तीव्र कुपोषण यानी सेवरल एक्यूट मेल्न्यूट्र‍ियान (एसएएम) से पीड़ित बच्चों की रक्षा करना और अलग-अलग तरह की सब्जियों और फलों को खाने के लिए प्रोत्साहित करना होगा.

ईरानी ने ग्रामीण क्षेत्रों में परिवारों के बीच चल रहे पोषण माह के दौरान एक पोषण वाटिका या न्यूट्र‍िशन गार्डन (पोषण उद्यान) स्थापित करने की प्रतिबद्धता बनाने के लिए आकांक्षात्मक जिलों (भारत में जिले जो खराब सामाजिक-आर्थिक संकेतकों से प्रभावित हैं) से आग्रह किया. उसने कहा कि

एसएएम बच्चों की पहचान करने में कई लोगों ने जबरदस्त काम किया है, लेकिन सिर्फ पहचानना ही काफी नहीं है. उन्हें सुरक्षा की जरूरत है. और इसमें केवल हमारा समाज ही मदद कर सकता है. देश में ऐसे बच्चों की संख्या पहले 80 लाख थी, जो अब घटकर 10 लाख हो गई है. यह इस मुद्दे पर काम करने की ईमानदारी को दर्शाता है. हालांकि, अब राज्य हमें बता सकते हैं कि ऐसे बच्चों की सही संख्या क्या है और इसे कैसे कम किया गया है.

इसे भी पढ़ें: महिलाओं को जरूर खाने चाहिए ये 6 फूड्स, हमेशा रहेंगे हेल्दी और फिट

विशेषज्ञों के अनुसार, एक न्यूट्रिशन गार्डन, जो एक बगीचा या घर का वह क्षेत्र है जहां घरेलू उपयोग के लिए सब्जियां, फल या जड़ी-बूटियां उगाई जाती हैं, भोजन और पोषण सुरक्षा के मामले में कमजोर परिवारों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक उपयोगी होगा.

ईरानी ने कहा कि पोषण उद्यान के महत्व को देखते हुए, पोषण माह का पहला सप्ताह आयुष, शिक्षा, कृषि और ग्रामीण विकास सहित अन्य मंत्रालयों के साथ मिलकर वृक्षारोपण गतिविधियों को बढ़ाने के लिए समर्पित होगा. अन्य तीन सप्ताहों के दौरान सरकार की गतिविधियों की योजना निम्नलिखित विषयों पर आधारित होगी-

– पोषण के लिए योग और आयुष (आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी), स्थानीय रूप से उपलब्ध पौष्टिक भोजन पर जागरूकता और ध्यान केंद्रित करना होगा.

पोषण उद्यान लगाने के अलावा, ईरानी ने शुरुआती स्तनपान के महत्व, बच्चे के जीवन के पहले 1,000 दिनों में अच्छे पोषण की जरूरत और युवा महिलाओं और बच्चों में एनीमिया को कम करने के उपायों के बारे में जागरूकता पैदा करने पर भी जोर दिया. उन्होंने कहा कि कुपोषण के कारण साल 2018 में देश की अर्थव्यवस्था को मंदी का सामना करना पड़ा और इससे निपटने के लिए सरकार ने पोषण (प्रधानमंत्री व्यापक पोषण योजना) अभियान शुरू किया. इस साल, केंद्र सरकार ने केंद्रीय बजट 2021-22 के दौरान पोषण सामग्री, वितरण, आउटरीच, परिणामों को मजबूत करने के लिए मिशन पोषण 2.0 की घोषणा की थी.

इसे भी पढ़ें: मां और बच्चे दोनों के लिए क्यों ज़रूरी है स्तनपान?

ईरानी ने पोषण माह के उद्देश्य को समझाने के लिए माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर का सहारा लिया और कहा, ”पीएम के नेतृत्व में, भारत सरकार ने कुपोषण से निपटने के लिए मार्च 2018 में पोषण अभियान शुरू किया. तब से, सितंबर के महीने को समाज में व्यवहार परिवर्तन लाने के लिए विशेष समर्पित गतिविधियों को अंजाम देने की दृष्टि से ‘पोषण माह’ के रूप में मनाया जाता है.”

उन्होंने आगे कहा कि 2019 में पोषण माह में पूरे भारत में 3.66 करोड़ गतिविधियां आयोजित की गईं, जबकि 2020 में बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण अभियान की शुरुआत हुई और आंगनबाड़ियों और सार्वजनिक स्थानों पर न्यूट्री-गार्डन विकसित किया गया. उन्होंने कहा कि 2020 में पोषण माह के दौरान 12.84 लाख वृक्षारोपण अभियान चलाए गए.

NDTV – Dettol Banega Swasth India campaign is an extension of the five-year-old Banega Swachh India initiative helmed by Campaign Ambassador Amitabh Bachchan. It aims to spread awareness about critical health issues facing the country. In wake of the current COVID-19 pandemic, the need for WASH (WaterSanitation and Hygiene) is reaffirmed as handwashing is one of the ways to prevent Coronavirus infection and other diseases. The campaign highlights the importance of nutrition and healthcare for women and children to prevent maternal and child mortality, fight malnutrition, stunting, wasting, anaemia and disease prevention through vaccines. Importance of programmes like Public Distribution System (PDS), Mid-day Meal Scheme, POSHAN Abhiyan and the role of Aganwadis and ASHA workers are also covered. Only a Swachh or clean India where toilets are used and open defecation free (ODF) status achieved as part of the Swachh Bharat Abhiyan launched by Prime Minister Narendra Modi in 2014, can eradicate diseases like diahorrea and become a Swasth or healthy India. The campaign will continue to cover issues like air pollutionwaste managementplastic banmanual scavenging and sanitation workers and menstrual hygiene

World

21,84,23,581Cases

18,18,51,775Active

3,20,28,825Recovered

45,42,981Deaths

Coronavirus has spread to 195 countries. The total confirmed cases worldwide are 21,84,23,581 and 45,42,981 have died; 18,18,51,775 are active cases and 3,20,28,825 have recovered as on September 2, 2021 at 3:57 am.

India

3,28,57,937 47,092Cases

3,89,583 11,402Active

3,20,28,825 35,181Recovered

4,39,529 509Deaths

In India, there are 3,28,57,937 confirmed cases including 4,39,529 deaths. The number of active cases is 3,89,583 and 3,20,28,825 have recovered as on September 2, 2021 at 2:30 am.

State Details

State Cases Active Recovered Deaths
Maharashtra

64,69,332 4,456

54,606 157

62,77,230 4,430

1,37,496 183

Kerala

40,90,036 32,803

2,30,461 11,020

38,38,614 21,610

20,961 173

Karnataka

29,50,604 1,159

18,438 26

28,94,827 1,112

37,339 21

Tamil Nadu

26,16,381 1,509

16,620 230

25,64,820 1,719

34,941 20

Andhra Pradesh

20,15,302 1,186

14,473 220

19,86,962 1,396

13,867 10

Uttar Pradesh

17,09,351 16

250 6

16,86,276 20

22,825 2

West Bengal

15,49,283 679

8,801 14

15,22,023 681

18,459 12

Delhi

14,37,800 36

343 6

14,12,375 42

25,082

Odisha

10,08,469 719

6,546 0

9,93,901 666

8,022 53

Chhattisgarh

10,04,482 31

391 21

9,90,536 52

13,555

Rajasthan

9,54,100 5

81 16

9,45,065 21

8,954

Gujarat

8,25,435 13

153 3

8,15,201 10

10,081

Madhya Pradesh

7,92,186 11

83 4

7,81,587 7

10,516

Haryana

7,70,506 20

640 6

7,60,189 14

9,677

Bihar

7,25,718 10

86 14

7,15,979 24

9,653

Telangana

6,58,376 322

5,852 12

6,48,648 331

3,876 3

Punjab

6,00,651 37

330 6

5,83,887 28

16,434 3

Assam

5,89,999 573

6,794 107

5,77,534 669

5,671 11

Jharkhand

3,47,894 27

137 7

3,42,625 20

5,132

Uttarakhand

3,43,001 25

365 11

3,35,249 14

7,387

Jammu And Kashmir

3,25,529 110

1,319 11

3,19,801 120

4,409 1

Himachal Pradesh

2,13,799 251

1,784 142

2,08,412 104

3,603 5

Goa

1,74,050 95

889 12

1,69,959 82

3,202 1

Puducherry

1,23,710 138

785 70

1,21,112 67

1,813 1

Manipur

1,14,203 270

3,388 9

1,09,031 277

1,784 2

Tripura

83,065 104

979 62

81,284 40

802 2

Meghalaya

76,100 264

2,263 63

72,522 323

1,315 4

Chandigarh

65,108 3

37 3

64,257 5

814 1

Mizoram

61,111 1,992

9,865 980

51,028 1,011

218 1

Arunachal Pradesh

53,102 71

873 10

51,969 61

260

Nagaland

30,157 74

805 10

28,732 84

620

Sikkim

29,954 76

1,039 55

28,545 131

370

Ladakh

20,567 7

71 2

20,289 5

207

Dadra And Nagar Haveli

10,663

4 0

10,655

4

Lakshadweep

10,347

26 5

10,270 5

51

Andaman And Nicobar Islands

7,566

6 0

7,431

129





Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *