WhatsApp पर 3 रेड टिक का मतलब सरकार पढ़ रही है आपके चैट? जानें इस वायरल मैसेज की सच्चाई

May 29, 2021 0 Comments


WhatsApp को लेकर एक अजीबोगरीब दावा किया जा रहा है.

WhatsApp Fact Check: अभी वॉट्सऐप चैट्स में दो-टिक दिखते है, लेकिन एक मैसेज में दावा किया जा रहा है कि इसमें एक तीसरा टिक जोड़ा गया है, जो कि रेड टिक होगा, जानें इस वायरल मैसेज की सच्चाई…

वॉट्सऐप (WhatsApp) ने लोगों को एक फेक मैसेज के बारे में सावधान किया है. इसमें कहा गया है कि लोगों की चैट प्राइवेट नहीं है और सरकार उसे पढ़ सकती है. इसमें ये भी बताया गया है कि अगर सरकार ने आपका मैसेज पढ़ा है तो आपको नया टिक या कलर दिखेगा. अभी वॉट्सऐप चैट्स में दो-टिक दिखते हैं. मैसेज भेजने पर अगर एक टिक दिखता है तो इसका मतलब है मैसेज भेज दिया गया है, लेकिन दूसरे यूज़र को प्राप्त नहीं हुआ. मैसेज प्राप्त होने पर दो टिक दिखते हैं और मैसेज पढ़ने पर दो टिक नीले रंग के हो जाते हैं.

वहीं वॉट्सऐप पर ही वायरल फेक मैसेज में दावा किया जा रहा है कि इसमें एक तीसरा टिक जोड़ा गया है. इसमें कहा गया है कि अगर सरकार ने मैसेज को पढ़ा है तो तीसरा टिक नजर आएगा. अगर सरकार कार्रवाई करना चाहती है तो एक ब्लू टिक और दो रेड टिक नज़र आएंगे और तीसरे रेड टिक का मतलब है कि यूज़र को कोर्ट से समन भेजा जा रहा है.

(ये भी पढ़ें- बेहद सस्ता हुआ Realme का प्रीमियम 5G स्मार्टफोन, मिलेगी 8GB RAM, 6 कैमरे और 65W सुपरडार्ट चार्जिंग)

बता दें कि वॉट्सऐप और सरकार के बीच कानूनी विवाद चल रहा है. वॉट्सऐप ने केंद्र सरकार के नए IT रूल्स के खिलाफ मुकदमा दायर किया है. इसके बाद ही फेक मैसेज के जरिए लोगों में भ्रम फैलाने की कोशिश की जा रही है. हालांकि वॉट्सऐप यूज़र्स को ऐसे किसी मैसेज पर विश्वास नहीं करना चाहिए, क्योंकि कंपनी ने इसे गलत बताया है और लोगों से इस तरह के मैसेज से दूर रहने को कहा है.

(ये भी पढ़ें-  1 जून से बंद हो रही है Google की खास सर्विस, जानें कैसे लें ले अपनी फोटोज़ का बैकअप)

यूज़र्स के बीच वॉट्सऐप पर होने वाली चैट एंड-टू-एंड एनक्रिप्टेड होती है. इसका मतलब है कि कोई भी इस चैट को नहीं पढ़ सकता. इस तक किसी सरकार या थर्ड पार्टी की पहुंच नहीं है. वॉट्सऐप ने लोगों से इस तरह के किसी मैसेज को फॉरवर्ड नहीं करने और इसकी रिपोर्ट करने को कहा है.









Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *