कभी भी आ सकता है Apple iOS 14.5 अपडेट: अब नहीं कर पाएगा आपसे पूछे बिना काेई आपकाे ट्रैक, जानिए सबकुछ

April 13, 2021 0 Comments


फेसबुक के बिजनस मॉडल के लिए यह एक बड़ी समस्या हाेगा

फेसबुक (Facebook)काे शायद इस बात की भी चिंता है कि एक बार Apple के ऐसा करने के बाद Google भी यह कदम उठा ले और एड्रायड और गूगल क्राेम व अन्य ऐप प्लेटफॉर्म के लिए. यदि ऐसा हाेता है ताे फेसबुक के बिजनस मॉडल के लिए यह एक बड़ी समस्या हाेगा.

नई दिल्ली. Apple के iOS का नया अपडेट iOS 14.5 अब कभी भी आ सकता है. इस नए अपडेट में प्रायवेसी भी काफी बेहतर की गई है. वैसे भी प्रायवेसी आज सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण मुद्दा हाे चुका है. यहां प्रायवेसी में एक नया फीचर एड किया है जिसका नाम है ऐप ट्रैकिंग ट्रांसपेरेंसी फीचर(App Tracking Transparency feature).  जिसमें यह कंट्राेल आपके हाथ में दिया जाता है कि जिस ऐप काे आप चुनेंगे वहीं आपकाे ट्रैक कर सकता है. मलबत साफ है अब स्पष्ट रूप से आपकी अनुमति के बगैर काेई भी ऐप आपकाे ट्रैक नहीं कर पाएगा. जाहिए है इस नए अपडेट की घाेषणा के बाद बड़े डवलपर्स से काफी आलाेचना मिली है जिसमें फेसबुक भी शामिल था. ऐसा इसलिए क्याें यह अपडेट लाइव हाे जाने के बाद फेसबुक (Facebook) आपकी विज्ञापन आईडी तक पहुंचने के लिए उसे पहले आपसे अनुमति मांगनी हाेगी.

जिस तह से यह ऐप ट्रैकिंग ट्रांसपेरेंसी फीचर काम करेगा उसमें जब आप अपने आईफाेन से काेई भी ऐप ओपन करेंगे पहली बार अपडेट करने के बाद आपके सामने ञप्शन आएगा “Allow XYZ to track your activity across other companies’ apps and websites?” जिसके बाद ऑप्शन आएगा “Ask App not to Track” or “Allow”. बताया जा रहा है कि यह अपडेट पहले से ही तैयार कर लिया गया था लेकिन apple ने इसे iOS 14.5 तक के लिए डिले कर दिया क्याेंकि allow ऐप डवलपर्स इस पर और बेहतर तरीके से काम करना चाह रहे थे. ऐप ट्रैकिंग ट्रांसपेरेंसी फीचर प्राइवेसी का पार्ट हाेगा सेटिंग के अंदर, आईफाेन यूजर्स अब चुनने में सक्षम हाेगा कि क्या वे अपने ब्राउजिंग और ऐप यूज ट्रेंड काे ट्रैक करने से किसी ऐप काे अनुमति देना या अस्वीकार करना चाहते हैं.

Apple ने फ्री रन काे खत्म कर दिया है

यहां आपकाे दाे चीजाें पर ध्यान देना चाहिए, पहला Apple डेटा ट्रैकिंग समाप्त नहीं कर रहा है दूसरा Apple व्यक्तिगत विज्ञापनाें काे भी बंद नहीं कर रहा है. सीधे शब्दाें में कहे ताे Apple ने फ्री रन काे खत्म कर दिया है, जाे अब तक ऐप और वेब प्लेटफॉर्म पर आपके उपयाेग की आदताें पर नजर रखने के साथ-साथ वाे भी बिना आपकी मर्जी के अब उन्हें इसके लिए इजाजत लेनी हाेगी.  कुछ महीनाें में फेसबुक ने ऐपल के ऐप ट्रैकिंग ट्रांसपेरेंसी फीचर की बाेहत आलाेचना की है. जाहिर है फेसबुक ने आपकी खरीदारी के लिए ब्राउजिंग , ऐप्स, आपके फाेन, टेबलेट, पीसी और बहुत कुछ काे ट्रैक करने में काफी समय दिया है.

 प्राइवेसी फीचर सभी ऐप पर लागू हाेगा 

Apple के सीईओ टिम कुम ने एक टि्वट में कहा आपकाे क्या लगता हैं कि कैसे आपके ब्राउजिंग के बाद फेसबुक (Facebook) और इंस्टाग्राम में वाे सारे ऐड नजर आने लगते है जाे कुछ समय पहले ही आपने किसी दूसरी साइट या इन प्लेटफॉर्म के जरिए जाकर सर्च किया था. यह नए प्राइवेसी फीचर सभी ऐप पर लागू हाेगा फिर वाे चाहे आईफाेन के लिए हाे या फिर ऐपल ऐप स्टाेर पर. हम मानते है कि यूजर के पास यह विकल्प हाेना चाहिए काैन उनका डाटा कलेक्ट कर रहा है और काैन इस्तेमाल इसके बारे में वाे खुद तय करे.

फेसबुक के बिजनस मॉडल के लिए यह एक बड़ी समस्या 

फेसबुक काे शायद इस बात की भी चिंता है कि एक बार Apple के ऐसा करने के बाद Google भी यह कदम उठा ले और एड्रायड और गूगल क्राेम व अन्य ऐप प्लेटफॉर्म के लिए. यदि ऐसा हाेता है ताे फेसबुक के बिजनस मॉडल के लिए यह एक बड़ी समस्या हाेगा. क्याेंकि जब लाेगाें के पास यह विकल्प हाेगा कि उन्हें ट्रैक किया जाए या नहीं ताे ज्यादातर इसके लिए नहीं ही चुनेंगे. कई छाेटे व्यवसायी भी इसे ध्यान में रखते हुए ही फेसबुक काे विज्ञापन देते है क्याेंकि उन्हें पता हाेता है कि वे सिलेक्टेड कस्टमर्स तक पहुंच सकते है.









Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *