क्या आप देखना चाहते हैं पृथ्वी का अतीत? गूगल अर्थ पर अब जल्द ही उल्टा घुमा सकेंगे समय का पहिया

March 16, 2021 0 Comments


Google Earth

गूगल अर्थ के एंड्रॉयड वर्जन पर जल्द एक ‘टाइम मशीन’ फीचर वापसी कर सकता है, जिससे समय में वापस जाने और अतीत के पुराने सैटेलाइट इमेज को देखने की अनुमति मिलती है.

गूगल अर्थ (Google Earth) जब 2001 में लॉन्च की गई थी, तो ये यूज़र्स के लिए किसी चमत्कार से कम नहीं था. यूज़र्स सिर्फ अपने घरों या आस-पास के क्षेत्रों की सैटेलाइट इमेज को देखने में समय बर्बाद कर रहे थे. अगर आप Google अर्थ डेस्कटॉप वर्जन का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो हम डेडिकेटेड डेस्कटॉप प्रोग्राम के बारे में बात कर रहे हैं, जिसे गूगल अर्थ प्रो (Google Earth Pro) कहा जाता है, आपको पता चलेगा कि इसमें कई सुविधाएं उपलब्ध हैं. ये सुविधाएं अभी तक Google अर्थ के मोबाइल या वेब वर्जन पर उपलब्ध नहीं हैं. गूगल अर्थ के वेब और मोबाइल दोनों में ही टाइम मशीन फीचर की कमी खलती है.

ये आपको समय में वापस जाने और अतीत के पुराने सैटेलाइट इमेज को देखने की अनुमति देता है. लेकिन अच्छी बात ये है कि XDA की रिपोर्ट के मुताबिक ये फीचर जल्द गूगल अर्थ के एंड्रॉयड वर्जन पर वापसी कर सकता है.

(ये भी पढ़ें- चैट में पासवर्ड लगाने से लेकर मल्टी डिवाइस सपोर्ट तक, WhatsApp पर आ रहे हैं ये 5 दमदार फीचर्स)

रिपोर्ट में बताया गया है कि ये सुविधा गूगल अर्थ ऐप के अंदर उपलब्ध है. Google अर्थ टाइम मशीन सुविधा ‘experimental फीचर’ के रूप में उपलब्ध है. इसका मतलब यह भी है कि कोई आसान तरीका नहीं है. कोई भी इस सुविधा को एक्सेस कर सकता है या ट्राई कर सकता है.हालांकि, अगर आप वास्तव में इस Google Earth टाइम मशीन सुविधा का इस्तेमाल करने में रुचि रखते हैं, तो आपको एक रूटेड फोन रखना सुनिश्चित करना होगा. इसके अलावा आपको अपनी ऐप प्रेफरेंस को रूट एक्सप्लोरर या किसी और टरमिनल कमांड के ज़रिए मैनुअली मॉडिफाई करना होगा.

बात करें टाइम मशीन फीचर की तो इससे 1930s-40s की जगहों की पुरानी इमेज को देखा जा सकता है, जो कि सैन फ्रैंसिस्को के लिए है.

(ये भी पढ़ें- Redmi के 7,499 रुपये वाले बजट स्मार्टफोन को सिर्फ 353 रुपये में लाएं घर, जानें कैसे मिलेगा आपको फायदा)

इसके अलावा विशेष रूप से एक टाइम लैप्स सुविधा है जो आपको उन सभी पुरानी छवियों को देखने में मदद करती है जो Google सर्वर के डिपॉजिटरी पर उपलब्ध हैं. रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि अमेरिका के बाहर के स्थानों को देखने से परेशानी हो सकती है, क्योंकि कुछ स्थानों के लिए विस्तृत उपग्रह इमेजरी की कमी है. और चूंकि यह सुविधा ऐप फ्लैग के रूप में उपलब्ध है, इसलिए ये एंड्रॉयड ऐप के स्टेबल वर्जन के लिए जल्द आ सकती है.








Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *